क्या आपमें है टैलेंट ? सांसद बृजभूषणशरण सिंह

हम पिछले चौदह वर्षों से युवाओं में टैलेंट की खोज कर रहे हैं l इसके लिए हम अपनी टीम के साथ मिलकर प्रतिवर्ष ‘टैलेंट सर्च प्रतियोगिता’  युवाओ के बीच कराते है और इस कार्य में काफी हद तक सफलता मिल रही है l ना जाने कितना टैलेंट आज हमारे गावों से निकलकर जिले से तहसील से राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ख्याति प्राप्त कर रहा है l

इस टैलेंट सर्च प्रतियोगिता को जिला एवं तहसील स्तर पर कराया जाता हैं l अब तक इस प्रतियोगिता से होकर गुजरे बच्चे कोई वैज्ञानिक तो कोई शिक्षाविद,  इंजीनियर बन चुके है l  तक़रीबन 25000 से अधिक बच्चे इस प्रतियोगिता से होकर गुजर चुके हैं और आज देश भर में अपने जिले का नाम रोशन कर रहे हैं l

विजेताओ का उत्साह वर्धन हेतु स्कूटी, मोटरसाइकिल, लैपटॉप, खेल सामग्री – किट, कॉपी, किताबे, मैडल आदि से बच्चों को पुरस्कृत किया जाता है l

इस प्रतियोगिता का इंतज़ार छात्र साल भर करते हैं l साक्षर भारत एवं शिक्षित गोंडा के सपने को पूरा करने के उद्देश्य से ही हमने 54  संस्थानों  को दूर दराज़ के ग्रामीण आँचल में स्थापित किया, जहाँ गोंडा की साक्षरता दर पहले 40 % हुआ करती थी वहीं आज 63 % हो गई है l

उनका कहना है की आधुनिक शिक्षा प्रतियोगिता के स्वयं भी लाभ है.. वह ज्ञान-विज्ञान के उन क्षेत्रों में महारत हासिल करता है l जो उसके भावी जीवन को सुख शांति और धन-संपत्ति से भर देता है । वह मानव समाज के लिए ऐसे-ऐसे कार्य करने में सक्षम होता है जिससे मानवता समुन्नत होती है। भारत में जितने भी बड़े- बड़े समाज सुधारक हुए वे सबके सब बहुत शिक्षित थे l

 

हमारा यही युवाओ को हमेसा संदेश होता है  कि “कुशल बनो – आगे बढ़ो”

गांव के युवा अगर संगठित होकर काम करना सीख जांए तो ग्रामीण विकास को नए आयाम मिल सकते है, जहां गांव में ही रोजगार के अवसर उपलब्ध हो सकते है वहीं ग्रामीण जीवनचर्या भी आधुनिक हो सकती है ।

शिक्षा को जन-जन तक पहचान के लिए हम हर मुमकिन प्रयास कर रहे हैं l . इक्कीसवीं सदी में भारत का हर नागरिक शिक्षित हो इसलिए सर्वशिक्षा को प्रभावी तरीके से लागू करना चाहते हैं l

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *